रूस की सबसे बड़ी तेल कंपनी Rosneft ने भारत की तो सरकारी तेल कंपनियों के साथ डील को ठुकरा दिया है 

ये दोनों सरकारी कंपनिया BPCL और HPCL है 

Rosneft ने कहा उनके पास अतिरिक्त तेल नहीं है वो पहले ही दुसरे ग्राहकों से तेल देने का वादा कर चुकी है 

हालाकिं रूस ने भारत की एक दूसरी सरकारी oil कंपनी IOC (Indian Oil Corporation) के साथ डील जारी रखा है 

इस डील के तहत इंडियन आयल हर महीने 60 लाख बैरल कच्छा तेल खरीदेगी

डील के तहत अगर जरुरत पड़े तो 30 लाख बैरल अतिरिक्त तेल की खरीदारी का प्रावधान भी रखा गया है

यह जानकारी समाचार एजेंसी रोयटोर्स के हवाले से दी गई है रिपोर्ट के अनुसार अगर 

HPCL और BPCL की तेल की जरुरत पूरी नहीं हो पाती तो उन्हें तेल स्पॉट market से महंगे कीमत पर खरदना पड़ेगा

ऊँची कीमत पर ख़रीदे गए तेल को ये कंपनियां देश में भी महंगे कीमत पर बेचेंगे, जिससे फिर महंगाई बढ़ने का खतरा है