IDFC के म्यूचुअल फंड बिजनेस का बंधन ग्रुप की अगुआई वाला एक कंसोर्शियम 4,500 करोड़ रुपये में अधिग्रहण करेगा

कंसोर्शियम ने IDFC एसेट मैनेजमेंट कंपनी (IDFC AMC) और IDFC AMC ट्रस्टी कंपनी का अधिग्रहण करने के लिए IDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है

अधिग्रहण करने वाले कंसोर्शियम में बंधन फाइनेंशियल होल्डिंग्स लिमिटेड (BFHL) के अलावा सिंगापुर की जीआईसी (GIC) और भारतीय पीई फर्म क्रिसकैपिटल (CC) शामिल हैं

जानकारी के मुताबिक, बंधन बंधन ग्रुप की अगुआई वाले कंसोर्शियम को एक कड़ी बोली प्रक्रिया के जरिए चुना गया है। इसके लिए 15 से अधिक वित्तीय संस्थानों और रणनीतिक निवेशकों के बोली लगाई थी

कंसोर्शियल की तरफ से जारी बयान में कहा गया, "इस अधिग्रहण पर लोगों की लंबे समय से निगाह थी और यह देश के एसेट मैनेजमेंट इंडस्ट्री का अब तक का सबसे बड़ा डील होने जा रहा है।"

कंपनी ने कहा, "समझौते में IDFC AMC की मौजूदा टीम और इनवेस्टमेंट प्रक्रिया को पहले की तरह जारी रखने का प्रयास किया गया है यूनिटधारकों को इस स्थिरता का लाभ मिलेगा |

साथ ही बंधन के ब्रांड और GIC और सीसी के इंटरनेशन नेटवर्स और अनुभवों से IDFC AMC को इंडस्ट्री में अपनी उपस्थिति मजबूत बनाने और भविष्य में और तेजी से ग्रोथ हासिल करने में मदद मिलेगी।"

IDFC लिमिटेड के चेयरमैन अनिल सिंघवी ने इस मौके पर कहा, "यह सौदा वैल्यू अनलॉक करने या विनेवश की हमारी योजना का अहम हिस्सा है। साथ ही यह भारतीय म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में IDFC AMC की मजबूत उपस्थिति को बताता है

बोर्ड से विनिवेश को मंजूरी मिलने के छह महीने के अंदर ही हमने इस सौदे पर हस्तक्षार कर लिया है, जो IDFC लिमिटेड और IDFC फाइनेंशियल होल्डिंग कंपनी के IDFC फर्स्ट बैंक के साथ विलय को पूरा करने के लिए बोर्ड की प्रतिबद्धता को दिखाता है