भारतीय प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने एक करवाई के तहत जब्त की chinise मोबाइल कंपनी Xiaomi  की सारी संपत्ति 

एक आंकड़े के मुताबिक Shaomi India की 5551 करोड़ की संपत्ति जब्त की गई है 

रेड्मी और Mi जैसी popular ब्रांड  बनाने वाली कंपनी Shaomi India पर FEMA से जुड़े कानूनों के उलंघन का आरोप हैं और इसकी जांच की जा रही है 

Fema के साथ- साथ इस कंपनी पर money laundring का भी आरोप है 

2014 में भारत में शुरू किया था काम –काज, Shaomi India चीन की मोबाइल कंपनी shaomi की एक सब्सिडियरी कंपनी है 

Shaomi India ने 2015 से अपनी पैरेंट कंपनी कंपनी को पैसे भेजने शुरू किये थे

अब तक Shaomi India विदेशी कंपनियों को कुल 5551.27 करोड़ रूपये भेज चुकी है 

ET के अनुसार Shaomi India ने इतनी बड़ी राशि Royalty चुकाने के आड़ में भेजी है 

विदेशी कंपनियों में एक कंपनी Shaomi ग्रुप की कंपनी है जबकि दो अन्य अमेरिका की कंपनियां है 

ET के अनुसार Shaomi India भारत में ही बने हुवे handset खरीदती है इसने इन तीनो कंपनियों से कोई भी सर्विस नहीं ली है फिर भी इसने उन्हें पैसे ट्रान्सफर किये हैं 

shaomi इंडिया ने कई फर्जी दस्तावेज बनाकर रॉयल्टी के नाम पर रकम भेजी है जो फेमा की धरा 4 का उलंघन है 

कुछ समय पूर्व ET ने Shaomi India head मनु कुमार जैन को समन भेजा था और उनसे पूछताछ की थी 

ET कंपनी के काम –काज करने के तरीको को लेकर फ़रवरी से जांच कर रही है फ़रवरी में जांच एजेंसी ने shaomi इंडिया को नोटिस भेजकर कई दस्तावेजो की मांग की थी