CBI द्वारा DHFL , के पूर्व CMD कपिल वधावन, डायरेक्‍टर धीरज वधावन और अन्य के खिलाफ 34,615 करोड़ रुपये धोखाधड़ी का नया मामला किया दर्ज

CBI द्वारा DHFL , के पूर्व CMD कपिल वधावन, डायरेक्‍टर धीरज वधावन और अन्य के खिलाफ 34,615 करोड़ रुपये धोखाधड़ी का नया मामला किया दर्ज

यह अभी तक के सीबीआई द्वारा जांच की गई सबसे बड़ी बैंक धोखाधड़ी का मामला बन गया है

मामला दर्ज होने के बाद CBI के 50 से अधिक अधिकारियों की एक टीम ने FIR में दर्ज आरोपियों से संबंधित 12 स्थानों पर मुंबई में तलाशी ली

इस धोखाधड़ी में अमरेलिस रियल्टर्स के सुधाकर शेट्टी और आठ अन्य बिल्डर भी शामिल हैं 

अधिकारियों के अनुसार बैंकों द्वारा आरोप लगाया गया है कि DHFL ने 2010 और 2018 के बीच विभिन्न व्यवस्थाओं के तहत कंसोर्टियम से 42,871 करोड़ रुपये का ऋण लिया है 

मई 2019 से DHFL ने  पुनर्भुगतान में चूक करना शुरू कर दिया

आपको बता दे जनवरी 2019 में भी DHFL की जांच में मीडिया द्वारा फंड की हेराफेरी की बात सामने आई थी 

सदस्यों द्वारा 1 अप्रैल, 2015 से 31 दिसंबर, 2018 तक के  DHFL की विशेष समीक्षा ऑडिट के लिए KPMG को  नियुक्त किया गया है 

यूनियन बैंक और उनके सहयोगी बैंकों द्वारा कपिल और धीरज वधावन के खिलाफ 18 अक्टूबर, 2019 को लुक आउट सर्कुलर जारी करने की प्रक्रिया शुरू की थी जिससे वो देश न छोड़े

बैंकों द्वारा ये भी आरोप है कि KPMG ने अपने ऑडिट में संबंधित और परस्पर जुड़ी संस्थाओं और व्यक्तियों को ऋण और एडवांस की आड़ में धन का कहीं और निवेश कर दिया