शेयर बाज़ार में पोर्टफोलियो कैसे बनाये | Stock Portfolio kaise banaye – Investandearn.net

Portfolio kaise banaye : अगर आप लम्बी अवधि में धन कमाने की सोच रहें हैं तो सबसे अच्छा तरीका शेयर मार्केट में निवेश ही माना जाता है, लेकिन इसके लिए आपको सही तरीके से Portfolio Management आना चाहिए, अगर नहीं पता, तो हम इस पोस्ट में इसके बारे में विस्तार से जानकारी शेयर करने वाले हैं |

पोर्टफोलियो कैसे बनाये (How do I create a Portfolio)

portfolio kaise banaye
portfolio kaise banaye

सही स्टॉक पोर्टफोलियो बनाना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि यह आपके द्वारा किये गए निवेश के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। यदि आप सोच रहे हैं कि स्टॉक पोर्टफोलियो कैसे बनाया जाए, तो उससे पहले जानते हैं की portfolio क्या होता है ?

पोर्टफोलियो क्या है (Portfolio meaning)

पोर्टफोलियो आपके द्वारा अलग – अलग एसेट में निवेश किया गया, विभिन्न संपत्तियों का एक संग्रह है। आप अपने पोर्टफोलियो में सोना, चांदी,  स्टॉक, म्यूचुअल फंड के यूनिट्स,  रियल एस्टेट संपत्ति, बांड और अन्य कीमती सामान इत्यादि शामिल कर सकते हैं।

अब यहाँ अपने पोर्टफोलियो में अलग-अलग एसेट रखने का क्या मतलब है , उदाहरण के लिए आपने अकसर सुना होगा जब किसी कारण से शेयर बाज़ार में गिरावट आती है तो बांड मार्केट में तेजी आ जाती है , और बांड के रेट बढ़ने लगते हैं | मतलब लोग अपने शेयर के पोर्टफोलियो के risk को कम करने के लिए बांड को निवेश करने लगते हैं |

इसी प्रकार जब शेयर मार्केट क्रेश करता हैं तो सोने और crude oil की कीमत बढ़ने लगती है क्योकि लोग अपने stock पोर्टफोलियो के risk को कम करने के लिए इनमे निवेश करने लगते हैं |

हाल में हुवे Russia Ukrain War के चलते crude oil की कीमत पिछले 14 साल में सबसे ऊँचे स्तर पर पहुच गयी , वही दूसरी और stock मार्केट में तेज गिरावट थी |

स्टॉक पोर्टफोलियो (Stock Portfolio)

आपके द्वारा बनाने गए पोर्टफोलियो में अगर आपने शेयरों को खरीद कर रखा है तो उसे हम stock पोर्टफोलियो कहेंगे |

स्टोक पोर्टफोलियो मे शेयर की संख्या (Number of Shares in Portfolio)

 एक महत्वपूर्ण प्रश्न अक्सर पूछा जाता है stock पोर्टफोलियो में कितने शेयर होने चाहिए, यह पूरी तरह से आप पर निर्भर करता है कि आप कितने शेयर मैनेज कर सकते है, लेकिन फिर भी आपको कम से कम 10 शेयर और ज्यादा से ज्यादा 20 शेयर रख सकते हैं |

अगर हम देश के दिग्गज निवेशको (top 10 investors in india ) की बात करे तो Rakesh jhunjhunwala portfolio में 35 शेयर ही मौजूद हैं | वही Dolly khanna  portfolio में मात्र 17 शेयर ही हैं |

स्टॉक पोर्टफोलियो कैसे बनाएं (Stock portfolio kaise banaye)

एक निवेश पोर्टफोलियो बनाने के लिए जो लगातार रिटर्न दे सके, आपको निम्नलिखित चार कारकों पर ध्यान देना होता है

अपना लक्ष्य निर्धारित करें (Set your Goal)

अपने लक्ष्य निर्धारित करना स्टॉक पोर्टफोलियो बनाने का पहला कदम है। पोर्टफोलियो बनाने से पहले यह जानना महत्वपूर्ण है कि आपका अंतिम लक्ष्य क्या है। इस तरह, आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपका निवेश आपको अपने लक्ष्यों के करीब लाने की दिशा में काम करे।

उदाहरण के लिए, यदि आप 30 साल के हैं और अगले  10 वर्षों में घर खरीदने की योजना बना रहे हैं, तो आपको अपने पोर्टफोलियो में ग्रोथ स्टॉक का पोर्टफोलियो बनाना सही होगा, आपको वैसे stock को शामिल करने पड़ेगा जिनमे आने वाले समय में अच्छी ग्रोथ हो ।

इसी प्रकार अलग – अलग उम्र और जरुरत के अनुसार अलग- अलग लोगों के अलग पोर्टफोलियो बनेंगे | एक 25 साल के व्यक्ति की पोर्टफोलियो किसी दुसरे 50 साल के व्यक्ति की तुलना में बिलकुल अलग बनेगी, जो पूरी तरह से उनके लक्ष्य पर निर्भर करेगा |

 पूंजी का बटवारा (Asset allocation)

एक बार जब आप यह निर्धारित कर लेते हैं कि आपका लक्ष्य क्या हैं, तो अगला कदम उसी के अनुसार निवेश करना है | एसेट एलोकेशन से तात्पर्य उस प्रत्येक प्रकार की संपत्ति के प्रतिशत से है जिसे आप अपने पास रखे पोर्टफोलियो में निवेश करना चाहते हैं। यहाँ पर आपको अपने रिस्क लेने की क्षमता और पाने वाले return का विशेष ध्यान रखना होगा, उसी के अनुसार आप एसेट एलोकेशन कर सकते हैं |

उदाहरण के लिए, मान लें कि आप अब से 20 साल बाद अपनी रिटायरमेंट की योजना बना रहे हैं। साथ ही, आप कम risk सहने वाले निवेशक हैं। तो ऐसे में  आप, अपने पोर्टफोलियो में डिविडेंड देने वाले शेयरों और वैसे शेयर जिनमे आने वाले समय में अच्छी growth हो इन्हें रख सकते हैं, अब बात आती है asset एलोकेशन की तो  आप शेयरों के बीच 80:20 का ratio रख सकते हैं मतलब आपके निवेश का 80% dividend देने वाले शेयर में और बाकि का 20% growth stock में निवेश होना चाहिए |

Thumb rule for asset allocation

एसेट एलोकेशन के लिए लोग thumb rule का भी सहारा लेते हैं आइये जानते हैं ये क्या है – thumb rule के अनुसार आपकी आयु को 100 या 110 से घटाकर आपके पोर्टफोलियो का कौन सा हिस्सा स्टॉक निवेश के लिए लगाया जाना चाहिय, यह निर्धारित होता है ।

 उदाहरण के लिए, यदि आपकी आयु 30 वर्ष है, तो यह नियम बताता है कि आप के कुल निवेशित राशि का  70% से 80 शेयर में जाना चाहिए और शेष बचा 30 – 40%, बांड और अन्य सुरक्षित निवेश विकल्पों में जाना चाहिए। आपके 60 के उम्र में , आपका पोर्टफोलियो का 50-60% स्टॉक में और शेष बचा 40-50% बॉन्ड में लगना चाहिए।

 अलग अलग सेक्टर में निवेश (Divrsification)

अपने पोर्टफोलियो के Divrsification का मतलब है किसी भी एक sector या एसेट में अपनी सारी पूंजी न लगायें, उदाहरण के लिए आपने सारा पैसा किसी एक stock में लगा दिया और वह स्टोक चला ही नहीं , या किसी कारणवस उसके फंडामेंटल्स बदल गए और वह कंपनी घाटे में जाने लगी तो आपका पैसा डूब सकता है |

इसलिए अगर आप शेयर में निवेश कर रहें हैं तो बेहतर होगा अपने stock पोर्टफोलियो में अलग – अलग sector के अलग- अलग शेयरों का समावेश करें |

अगर आप इक्विटी और बांड दोने में निवेश कर रहें हैं तो अपनी risk के अनुसार आपना एसेट निर्धारित करें |

पोर्टफोलियो की नियमित देखरेख और पुनर्संतुलन: (Portfilio management and checkups)

शेयर बाजार एक गैर-स्थिर और अस्थिर इकाई है, इसमें हमेशा उतार – चढाव आता रहता है। यानी एक साल पहले अच्छा प्रदर्शन करने वाला स्टॉक इस साल अच्छा प्रदर्शन कर भी सकता है और नहीं भी। इसलिए, यह सुनिश्चित करना कि आपका पोर्टफोलियो बासी न हो जाए, या return देना band न कर दे |

 शेयर बाजार पोर्टफोलियो बनाने के बाद एक महत्वपूर्ण नियम है कि, अपने पोर्टफोलियो की नियमित रूप से जांच करें, जैसे कि मासिक, त्रैमासिक, अर्ध-वार्षिक, या वार्षिक, यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके सभी निवेश चालू हैं और आपके पास ऐसे स्टॉक नहीं हैं जो आपके पोर्टफोलियो को नीचे खींच रहे हैं।

  1. कहा कहा निवेश करने से अच्छा Portfolio बनता हैं?

    Equity, Debt, Mutual fund

  2. पोर्टफोलियो क्या है इन हिंदी?

    पोर्टफोलियो आपके द्वारा अलग – अलग एसेट में निवेश किया गया, विभिन्न संपत्तियों का एक संग्रह है। आप अपने पोर्टफोलियो में सोना, चांदी,  स्टॉक, म्यूचुअल फंड के यूनिट्स,  रियल एस्टेट संपत्ति, बांड और अन्य कीमती सामान इत्यादि शामिल कर सकते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

अब जब आप जानते हैं कि स्टॉक पोर्टफोलियो कैसे बनाया जाता है (portfolio kaise banaye), तो आगे बढ़ें और इसे अपने लिए आजमाएं। लेकिन ऐसा करने से पहले, सुनिश्चित करें कि आपके पास एक ट्रेडिंग और डीमैट खाता है। यदि आपके पास पहले से कोई खाता नहीं है, तो तुरंत एक डीमैट खाता और एक ट्रेडिंग खाता खोलने के लिए इस link पर जाएँ Open Demat Account

Leave a Comment

Pin It on Pinterest

Stock market latest news : जाने-माने Fund Manager Nilesh Shah ने बताया गिरावट की मुख्य वजह Vijay Kedia latest news : इन लोगों ने शेयर बाज़ार को जुवारियों का अड्डा बना दिया Aether Industries IPO: मुख्य बाते जो आपको जानी चाहिए इस Crypto Currency ने डुबाये निवेशकों के 40 बिलियन रूपये, Crypto Currency में निवेश करना कितना सुरक्षित Grubhub free lunch: Free lunch for NYC office workers on 17th May , use the promo code