Sensex और Nifty क्या है ? (What is Sensex and Nifty)

sensex and nifty

इस लेख में हम सेंसेक्स और निफ़्टी (Sensex and Nifty) के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे सेंसेक्स (Sensex) और निफ़्टी (Nifty) क्रमसः BSE और NSE के प्रमुख सूचकांक है | भारत में NSE नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange) और BSE (Bombay Stock Exchange) दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज है ।

स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange) एक मार्केट होता है जहां पर शेयर खरीदने वाले और शेयर बेचने वाले बालों के बीच शेयर का लेनदेन होता है, निफ्टी और सेंसेक्स (Nifty and Sensex) दोनों भी indices है । सेंसेक्स (Sensex), Bombay Stock Exchange  का मुख्य निर्देशांक है और निफ़्टी (Nifty) नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange) का मुख्य निर्देशांक है । मुंबई स्टॉक एक्सचेंज पर 5000 से ज्यादा कंपनियां लिस्टेड है वही नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर 1600 से ज्यादा कंपनियां listed है।

शेयर बाजार (Share market) का हाल जानने के लिए सारी कंपनियों को track करना मुश्किल है इसलिए index बनाए गए हैं । भारत में शेयर बाजार का हाल जानने के लिए सारी कंपनियों को ट्रैक करने की जरूरत नहीं है बस निफ्टी और सेंसेक्स (Nifty and Sensex) को देखकर आप पता कर सकते हैं बाजार आज ऊपर है या नीचे ।

open demat account

जब सेंसेक्स और निफ़्टी हरे निशान में हो तो आप कह सकते हैं शेयर बाजार आज ऊपर है अगर सेंसेक्स और निफ़्टी लाल निशान में हो तो आप कह सकते हैं की बाजार आज नीचे है। यानी निफ़्टी और सेंसेक्स अगर हरे निशान में हैं तो य कल की क्लोजिंग वैल्यू से आज ऊपर है वहीं पर निफ्टी और सेंसेक्स अगर लाल निशान में है तो का मतलब कल की क्लोजिंग value से आज नीचे हैं।

निफ़्टी और सेंसेक्स क्या है ?(what is NiFty and Sensex)

सेंसेक्स शब्द Sensitive और Index को मिलाकर बनाया गया है सेंसिटिव से पहले 4 अक्षर और इंडेक्स से अंतिम दो अक्षर लिए गए हैं सेंसेक्स में अलग-अलग क्षेत्रों की 30 बेहतरीन और दिग्गज कंपनियों को शामिल किया गया है यानी सेंसेक्स का मूवमेंट इन 30 कंपनियों के शेयर के मूवमेंट के आधार पर निर्धारित होता है ।

निफ़्टी National और Fifty शब्द से मिलकर बना है fifty  इसलिए क्योंकि निफ्टी में 50 कंपनियां शामिल हैं यह कंपनियां अलग-अलग क्षेत्रों की बेहतरीन और दिग्गज कंपनियां हैं जिसका मतलब है निफ्टी की मूवमेंट इन 50 कंपनियों के शेयर प्राइस के मूवमेंट के आधार पर निर्धारित होती है । निफ्टी जो NSE का मुख्य इंडेक्स है उसे निफ़्टी फिफ्टी (Nifty50) के नाम से भी जाना जाता है ।


निफ्टी और सेंसेक्स में जो भी कंपनियां चुनी जाती है वे कंपनियां अपने -अपने सेक्टर की लीडर होती हैं ज्यादातर इन कंपनियों को अलग-अलग सेक्टर से चुना जाता है इसलिए निफ्टी और सेंसेक्स का जो परफॉर्मेंस होता है वही स्टॉक मार्केट का परफॉर्मेंस माना जाता है ।

स्टॉक एक्सचेंज के और भी कई सारे indices होते हैं NSE और BSE पर लगभग सभी सेक्टर के indices हैं किसी भी सेक्टर के indices मैं उस सेक्टर की दिग्गज और बेहतरीन कंपनियां शामिल होती हैं । उदाहरण के लिए अगर आपको बैंकिंग सेक्टर का हाल जानना है तो आप NSE और BSE पर बैंक निफ़्टी (Bank Nifty) की परफॉर्मेंस को देखकर बैंकिंग सेक्टर के हाल का पता लगा सकते हैं ।

Stock Exchange पर मिडकैप और स्मॉलकैप कंपनियों के भी indices होते हैं जैसे कि S&P BSE Small cap और S&P BSE Mid cap, NIFTY Mid Cap Fifty इत्यादि जहां पर आप मिडकैप और स्माल कैप का हाल जान सकते हैं ।
अगर निफ्टी और सेंसेक्स में कोई शेयर लगातार खराब परफॉर्म करता रहता है तो उसे निकालकर उसकी जगह किसी अच्छे शेयर को शामिल कर लिया जाता है और यह फैसला एक्सचेंज खुद लेता है ।

open demat account

इस लेख में हमने निफ़्टी और सेंसेक्स (Nifty and Sensex) तथा दोनों स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange), BSE और NSE के बारे में विस्तृत जानकारी देने का प्रयास किया है, ये लेख आपको कैसा लगा ? नीचे कमेंट सेक्शन में अपने मूल्यवान विचार अवस्य लिखे, धन्यवाद |

Leave a Reply

*

Pin It on Pinterest